NEFT Full Form क्या है ? NEFT कैसे काम करता है ?

1
86
NEFT full form
Image Source : Google

NEFT Full Form

आज के समय में हर कोई नेट बैंकिंग से वाकिफ है. कोई भी व्यक्ति अब बैंक जा कर रूपये ट्रान्सफर करने के लिए घंटो लाइन में धक्के खाना नहीं पसंद करता. सभी तकनीक की मदद से रुपया ट्रान्सफर करने के आदि हो चुके है. ऐसे में आपने NEFT का नाम अपनी रोज की जिन्दगी में जरुर सुना होगा. यदि आप NEFT से वाकिफ नहीं है तो हम आपको बता दें NEFT Full Form National Electronic Fund Transfer ( नेशनल इलेक्ट्रॉनिक फण्ड ट्रान्सफर )है.

आइये NEFT Full Form लेख में आज विस्तार से बात करते हैं NEFT के बारे में , NEFT क्या है ? यह कैसे काम करता है ?

दरअसल , NEFT ( National Electronic Fund Transfer ) एक खाते से दूसरे खाते में रूपये ट्रान्सफर करने का तरीका है. जिसे 2005 में शुरू किया गया और आज हर राष्ट्रिय स्तर का बैंक इसे स्वीकार करता है. RBI द्वारा एक खाते से दूसरे खाते में ऑनलाइन रुपया ट्रान्सफर करने के दो विकल्प दिए गये NEFT  और RTGS ( Real Time Gross Settelment ). जिस से आपका खाता चाहे किसी भी बैंक में क्यों न हो आप पैसे का लेन देन आसानी से कम समय में कर सकते है.

आज के समय में NEFT का प्रचलन काफी ज्यादा है जिसका कारण है की आप अपने ग्राहक या क्लाइंट को कुछ समय अंतराल में ही रुपया भेज या मंगवा सकते है. हालांकि RTGS में ट्रान्सफर रियल टाइम में होता है जबकि NEFT में थोडा समय लगता है.

NEFT कैसे काम करता है ?

  • NEFT के काम करने की बात करें तो इन्टरनेट बैंकिंग का उपयोग करते हुए आप जिस व्यक्ति को पैसे भेजना चाहते है उससे पहले आपको अपना अकाउंट थर्ड पार्टी ट्रांजेक्शन के लिए एक्टिवेट करना होता है.
  • अकाउंट एक्टिवेट होने के बाद आपको जिस व्यक्ति को रुपया भेजना है उसे बेनेफिशरी के तौर पर आपको शामिल करना होगा. जिसके लिए उसका अकाउंट नंबर , नाम , IFSC कोड मालूम होना जरुरी है.
  • बेनेफिशरी को शामिल करने के बाद इन्टरनेट बैंकिंग के लिए आपको आधे घंटे का इन्तेजार करना पड़ता है जिसमे बैंक उस व्यक्ति की डिटेल्स चेक करते है.
  • डिटेल्स चेक करने के बाद उस व्यक्ति का नाम आपके बेनेफिशरी लिस्ट में एक्टिव दिखाने लगता है जिसका मतलब है की आप उसे अब रूपये भेज सकते है.

NEFT के लिये मूल्य

इन्टरनेट बैंकिंग में यदि आप NEFT द्वारा पैसे ट्रान्सफर कर रहे है तो सम्भव है आपको कुछ रूपये इसके चार्ज करने पड़े. हालाँकि यह मूल्य छोटा सा ही होता है लेकिन अलग अलग बैंक पर यह निर्भर करता है.

आप इसे 10 हजार पर 2.5 रूपये का मान सकते है. जबकि 10 हजार से 1 लाख के बीच में 5 रूपये का मूल्य लगता है. 1 लाख से 2 लाख तक 15 रूपये और फिर 2 लाख से ऊपर 25 रूपये NEFT चार्ज के रूप में कटते है. साथ ही इस मूल्य पर कुछ पैसे टैक्स भी जाता है.

ध्यान देने योग्य बाते

  • NEFT के जरिये पैसे ट्रान्सफर करने की कोई सीमा नहीं है जबकि RTGS द्वारा दो लाख की रकम कम से कम ट्रान्सफर की जाती है.
  • RTGS का ट्रान्सफर तुरंत होता है जबकि NEFT का ट्रान्सफर RBI के द्वारा समय सीमा के अन्दर किया जाता है.
  • जरूरी नहीं की आप इन्टरनेट बैंकिंग द्वारा ही NEFT या RTGS करें. इसे बैंक की ब्रांच से भी किया जा सकता है.
  • NEFT अवकाश वाले दिन सम्भवतः पूर्ण नहीं होती साथ ही शाम के समय में भी 6:30 के बाद अगले दिन 8 बजने का इन्तेजार करना पड़ सकता है.

तो यह थी NEFT Full Form और NEFT से जुडी पूर्ण जानकारी. हम उम्मीद करते है NEFT Full Form लेख में आपको पर्याप्त जानकारी मिली होगी. यदि इस से जुडी कोई भी जानकारी या सवाल आपके पास मौजूद है तो आप हमें कमेंट बॉक्स या फिर NEFT Full Form सब्जेक्ट के साथ मेल  में पूछ सकते है.

अन्य प्रष्ठ

What is Insurance in Hindi ? Insurance क्या है ?

Cancelled cheque क्या है ? Cancel cheque की क्यों जरूरत होती है ?

1 COMMENT

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here