Pay Per Click Kya Hai ? आइये जानें इसके क्या फायदे है ?

4
275
Pay Per Click Kya Hai
Image Source : Google

Pay Per Click Kya Hai ?

इन्टरनेट के इस युग में हर कोई अपना बिजनेस ऑनलाइन करना चाहता है, हर किसी की नजर अपने साथी व्यापारी से दो कदम आगे रहने की है ऐसे में तेजी से बढ़ती टेक्नोलॉजी में Digital Marketing की अहम् भूमिका है. आज हम आपको इस लेख में विस्तार से Pay Per Click Kya Hai ? PPC क्यों इस्तेमाल किया जाता है ? PPC के क्या फायदे है ? इसके सभी पहलुओं से रूबरू करायेंगे. यदि आप कोई बिजनेसमैन या ब्लॉगर है और अपने प्रोडक्ट व सर्विस को ऑनलाइन प्रोमोट करना चाहते हैं तो यह जानकारी आपके लिए बेहद महत्वपूर्ण सिद्ध होगी.

Pay Per Click Kya Hai ? पर विस्तार से बात करने से पहले बात करते है Marketing की. जैसा हम सभी जानते है कोई भी ऑनलाइन या ऑफलाइन व्यापार बिना किसी Marketing यानी विज्ञापन आदि के नहीं चल सकता. यदि आप अपनी कोई भी सर्विस या प्रोडक्ट बेचते है तो उसके लिए आपको मार्केटिंग की जरूरत पडती ही है ताकि सभी लोग आपके बारे में जान सकें. जिसके लिए हम सभी तरह तरह के रास्ते अपनाते है और काफी खर्च भी उठाना पड़ता है.

Ofline Marketing की बात करें तो हमने अक्सर ही अपने आस पास कई प्रकार के पोस्टर्स , बैनर्स , होर्डिंग्स आदि लगे हुए देखें है. कई बार लोग स्पीकर्स या फिर रेडियो जैसे विज्ञापनों का सहारा भी लेते है. लेकिन यह सब मार्केटिंग के रास्ते अब समय के साथ साथ पुराने हो चुके है जिन मे अधिक खर्च किन्तु कम फायदा मिलता है. जिसके कारण सभी लोगों का फोकस अब Online Marketing पर होता जा रहा है जो की सस्ता व अपने विज्ञापन को दूसरों के सामने रखने का बेहतरीन विकल्प है.

हो सकता है आपके मन में सवाल उठे की Online Marketing सस्ता विकल्प कैसे है ? तो आगे बढने से पहले आपको समझा दें Ofline Marketing में आपको एक निर्धारित रकम देनी ही होती है फिर चाहे उस विज्ञापन को देख कर कोई आपकी सर्विस को खरीदे या नहीं. ऑफलाइन मार्केटिंग में जरूरी नहीं है की विज्ञापन देखने वाला व्यक्ति आपके प्रोडक्ट या सर्विस में इच्छा रखता भी हो, लेकिन Online Marketing में आपके पास यह विशेष विकल्प है की आप अपना विज्ञापन उन्ही लोगों को दिखा सकते है जो आपके जैसे प्रोडक्ट्स की तलाश कर रहे हो या फिर उन्हें आपके जैसी सर्विस की ही जरूरत हो. जिस से फायदा यह होता है की आपका विज्ञापन सही लोगों तक पहुचता है और आपके विज्ञापन पर हुए खर्च के बदले आपको क्लाइंट्स मिलने की सम्भावना कई गुना अधिक हो जाती है.

उधाहरण से इसे समझे तो , मान लीजिये आपकी कम्पनी महिलाओं के लिए सौन्दर्य क्रीम बनाती है जो की विशेष 30 से 40 उम्र की महिलाओं के लिए ही है. ऐसे में यदि आप अपनी क्रीम का विज्ञापन ऑफलाइन करते है तो आपके होर्डिंग्स, पेम्प्लेट्स, बैनर्स जरूरी नहीं सिर्फ महिलाओं के सामने ही रहे उन्हें पुरुष भी देखेगे और उस विशेष उम्र की महिलाओं के आलावा महिला पुरुष व बच्चे भी. तो क्या ऐसे में आप विशेष वर्ग पर फोकस कर पाए जिनसे आपको फायदा मिलना था ? लेकिन यदि आप इस प्रचार को Online करते है तो आपके पास कई विकल्प सामने आते है जैसे आप किसी भी विशेष स्थानीय क्षेत्र , उम्र , लिंग को फोकस कर सकते है जहाँ से आपके विज्ञापन पर ज्यादा लोगों के दिलचस्पी दिखाने की सम्भावना है.

आइये अब विस्तार से बात करते है Online Marketing के लिए अहम् PPC यानी Pay Per Click Kya Hai ?

Pay Per Click Kya Hai ?

लेख में अभी तक दी गयी जानकारी से आप सभी को यह अंदाजा तो हो गया होगा की PPC यानी Pay Per Click ऑनलाइन मार्केटिंग की ही कड़ी है. जिसके बिना Online विज्ञापन सम्भव नहीं है. आपने अपनी रोज की जिन्दगी में PPC Advertising को काफी नजदीक से भी देखा होगा. आइये हम बताते है कैसे ..

आप जब भी गूगल पर अपनी कुछ query सर्च करते है तो हमेशा ही प्राप्त हुए रिजल्ट्स में कुछ लिंक्स ऐसे भी होते है जिन पर साइड में छोटा सा AD लिख कर आता है. यानी की कोई कम्पनी या वेबसाइट अपनी उस सर्विस या प्रोडक्ट का विज्ञापन कर रही है. उस कम्पनी या वेबसाइट ने अपने लिंक को ऊपर लाने के लिए जिस रास्ते को अपनाया है उसे ही डिजिटल मार्केटिंग की दुनिया में PPC या Pay Per Click कहा जाता है.

Pay Per Click Kya Hai को नाम से समझें तो आसानी से हम मतलब निकाल सकते है की प्रति क्लिक भुगतान यानी ऐसा विज्ञापन जिसके लिए आपको तभी भुगतान करना है जब कोई आपके उस विज्ञापन पर क्लिक करे अन्यथा नहीं.

साधारण भाषा में आप इसे इस तरह देख सकते है की आप यदि ऑनलाइन कोई भी विज्ञापन चला रहे है तो आपको तभी भुगतान करना होगा जब कोई आपके उस विज्ञापन पर क्लिक करके आपकी वेबसाइट या ऑनलाइन पेज पर आता है. अन्यथा आपसे कोई भी चार्ज नहीं लिया जायेगा.

PPC का उपयोग

Pay Per Click का उपयोग आप या हम कोई भी साधारण व्यक्ति आसानी से अपनी किसी भी सर्विस या प्रोडक्ट को बेचने के लिए कर सकता है जिसके लिए किसी विशेष कुशलता की आवश्यकता नहीं है. PPC का उपयोग बड़ी कम्पनी अपने प्रोडक्ट्स को बेचने के लिए कर रही हैं तो आज के समय में कई बड़े इंस्टिट्यूट भी अपने प्रचार के लिए PPC का इस्तेमाल करते नजर आ रहे है. प्रति क्लिक भुगतान यहीं तक ही सीमित नहीं बल्कि आज के समय में राजनितिक पार्टियों के प्रचार का रास्ता भी बन चूका है. यदि आप ब्लॉगर है और अपने ब्लॉग को बिना SEO के ऊपर लाना चाहते है या आपका विचार है की किसी विशेष लेख पर आप विज्ञापन की सहायता से लोगों की मदद कर सकते है तो भी आप Pay Per Click को चुन सकते है.

Pay Per Click के फायदे

प्रति क्लिक भुगतान के फायदों पर यदि नजर डालें तो यह कई मायनो में मददगार सिद्ध होता है , जैसे –

  • यदि आप ब्लॉगर है तो आप जानते ही होंगे SEO में कितनी मेहनत और समय की आवश्यकता होती है जिसके बाद ही ब्लॉग सर्च इंजन में रैंक कर पाता है और उसके बाद भी उसकी रैंकिंग कभी कभी स्थिर नहीं रहती. ऐसे में यदि आप अपने ब्लॉग को सबसे ऊपर रखना चाहते है तो PPC आपके लिए बेहद फायदेमंद है.
  • हम सभी जानते है समय समय पर गूगल की अल्गोरिथम अपडेट होती रहती है जिस से हमारे ब्लॉग कभी नीचे तो कभी ऊपर आते है. ऐसे में यदि आप PPC का इस्तेमाल करते है तो आपको अपने ब्लॉग की रैंक देखने की आवश्यकता नहीं वह हमेशा ही ऊपर विज्ञापन में ही दिखाई देगा.
  • Pay Per Click Kya Hai ? से पहले उधाहरण के जरिये जैसा की हमने समझाया आज के समय में ऑफलाइन मार्केटिंग के बजाय ऑनलाइन मार्केटिंग सस्ता व असरदार तरीका है.
  • PPC के जरिये टार्गेटेड ऑडीयंस तक पंहुचा जा सकता है जिस से आपको व्यापार में वही क्लाइंट्स ज्यादा मिलते है जिनसे आपको फायदा हो.
  • Pay Per Click में आपको लाखो का बजट लेकर चलने की आवश्यकता नहीं रहती.यदि आपका बजट कम है तो भी आप अपने विज्ञापन को उसी के अनुसार दिखा सकते है.

Pay Per Click का मूल्य निर्धारण

उम्मीद है Pay Per Click Kya Hai ? इसके क्या उपयोग एवं फायदे है ? आप अच्छे से समझ गये होंगे. आइये अब बात करते है की PPC में इसके मूल्य का निर्धारण किस प्रकार से किया जाता है ?

साधारणता PPC का मूल्य दो फैक्टर्स पर निर्भर करता है,

  1. Location
  2. Keyword

Location में अहम् यह है की व्यक्ति किस क्षेत्र से सर्च कर रहा है जैसे यदि आपका विज्ञापन नेपाल भूटान पाकिस्तान बांग्लादेश जैसे देशों के लिए है तो आपको विज्ञापन के लिए अधिक खर्च करने की आवश्यकता नहीं है लेकिन यदि आप किसी बड़ी कंट्री जैसे अमेरिका , दुबई , ब्रिटेन , कनाडा पर काम करना चाहते है तो उसके लिए आपको महंगे विज्ञापन देने पड़ सकते है.

Keyword के आधार पर भी PPC मूल्य निर्धारण होता है. यदि आपका कीवर्ड Loan , Insurance , Health आदि से सम्बन्धित है तो आपको अच्छी कीमत के विज्ञापन चलाने की जरूरत है अन्यथा आप Low CPC Keywords पर फोकस करके सस्ते में अपने विज्ञापन चला सकते है.

PPC का इतिहास

Pay Per Click के इतिहास की बात करें तो यह पहली बार 1998 में Goto.com कम्पनी के द्वारा इस्तेमाल किया गया था जिसके बाद गूगल ने 1999 में इस पर काम शुरू किया और Adword लांच हुआ. हालांकि सही तरीके से 2002 में Pay Per Click सभी के सामने आया लेकिन तब इसके लिए प्रति हजार व्यूज को ध्यान में रखते हुए भुगतान किया जाता था.

PPC Advertising Company

  • Google Adword
  • Yahoo Search Marketing
  • Microsoft Adcenter

यदि आप PPC विज्ञापन चलाना चाहते है तो आपको बता दें  Google Adword , Yahoo Search Marketing , Microsoft Adcenter मुख्य तीन नेटवर्क ऑपरेटर है.

तो दोस्तों यह थी Pay Per Click Kya hai ? यह कैसे काम करता है ? इसके क्या फायदे है ? से सम्बन्धित समस्त जानकारी. उम्मीद करते है PPC से जुड़े जानकारी आपके लिए मददगार सिद्ध हुयी होगी. यदि आपके मन में Pay Per Click से जुड़े कोई भी सवाल है तो आप हमें बेहिचक कमेंटबॉक्स या फिर मेल के जरिये पूछ सकते है.

अन्य प्रष्ठ

Keyword Density Kya Hai ? इसे कितना रखना चाहिए ?

Summary
Review Date
Reviewed Item
Article
Author Rating
41star1star1star1stargray

4 COMMENTS

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here