Fastag Kya Hai ? यह कैसे कार्य करता है ?

0
fastag kya hai
Image Source : Google

क्या आपको भी गाड़ी लेकर गुमने जाने का शौख है? लेकिन क्या आपको Toll Plaza पर टोल टैक्स देने के लंबी कतार में खड़े रहना पसंद है?

नही ना!

यदि आपको गाड़ी लेकर लॉन्ग ड्राइव पर गुमने का शौख है तो आज का यह आर्टिकल आपके लिए जानना जरूरी है। आज के इस आर्टिकल में जानेंगे कि Fastag Kya Hai? फास्टैग लगाना क्यों जरूरी है? और Fastag से जुड़े कुछ सवालों के जवाब के बारे में जानेंगे।

वैसे पिछले कुछ समय से सरकार ने Toll Plaza पर दोगुना फीस लेना शुरू किया है यदि आपने अपनी गाड़ी में फास्टटैग नही लगाया है तो।

तो आइए आज के इस आर्टिकल में जानते है की कैसे आप Fastag लगाकर दोगुने फीस से बच सकते है और फास्टैग से जुड़ी जानकारी जानते है।

तो आइए शुरुआत करते है….

Fastag Kya Hai?

हाईवे पर वाहनों के शुल्क वसूल करने के लिए उपयोग में ली जाने वाली एक डिजिटल तकनीक है। जिस तरह से आप paytm से QR-Code को स्कैन कर पैसे एक खाते से दूसरे में खाते से भेजते है, ठीक उसी तरह यह भी एक स्कैनिंग तकनीक है, परन्तु यह ऑटो स्कैन वाली पद्धति है इसमें आपकी गाड़ी हाईवे टोल पर जाते ही आपके फास्टैग से स्वत ही टोल कट जाएगा।

FASTag यह एक रिलोडेबल टैग होता है, जिससे टोल प्लाजा पर ऑटोमैटिक चार्ज को काट लिया जाता है। यह एक बहुत ही सरल, आसानी से इस्तमाल किया जाने वाली तकनीक है। जिसमे आपके फास्टैग को आपके प्रीपेड अकाउंट के साथ लिंक लिंक किया जाता है, यहां से ऑटोमैटिक टोल के चार्ज अपने आप कट जाते है।

फास्टैग कैसे कार्य करता है ?

फास्टेग कैसे काम करता है? तो FastTag पद्धति में Radio-frequency Identification (RFID) तकनीक का इस्तमाल किया गया है और फास्टैग एक डिजिटल स्टीकर होता है जो आपकी गाडी की सामने वाले कांच (गाड़ी के windscreen) पर लगाया जाता है।

इस स्टीकर में एक प्रकार का रेडियो फ्रीक्वेंसी आइडेंटिफिकेशन लगा होता है। जैसे ही आपकी गाड़ी टोल के पास आती है तो आते ही यह फास्टैग स्टीकर से आपकी गाड़ी का टोल चार्ज ऑटोमैटिक ही कट जाता है।

यह एक प्रकार का डिजिटल ट्रांजेक्शन होता है। जो सेंसर की मदद से काम करता है। आपके फास्टैग का एक अलग से खाता बना होता है और उस खाते में आपके बैलेंस की पूरी जानकारी होती है।

आपको इसके लिए टोल पर रूकने की भी जरूरत नही होती है आपको बस उसी रास्ते से जाना होता है जहां से टाॅल लेने की प्रक्रिया है। आपके वाहन पर जो भी टैग लगा होता है वह एक प्रकार से प्रीपेड खाते को मैनेज करता है। यह टाॅल पर लगे सेंसर के सम्पर्क में आते ही आपका टोल काट देता है।

फास्टैग का सिस्टम भी आपके मोबाईल की तरह ही काम करता है जैसे की आपके मोबाइल सिम में रिचार्ज खत्म होता है तो आपको रिचार्ज करवाना होता है। वैसे ही एक फास्टैग की अवधि पांच साल तक की होती है, जैसे की आपके फास्टैग के पांच साल पूरे हो जाते है तो आपको एक नया फास्टैग लगाना होता है।

अभी तक आपने जान लिया होगा की फास्टैग कैसे काम करता है? आइए आज फास्टैग के फायदे के बारे में जानते है।

फास्टैग के फायदे क्या है?

पहले जब Fastag नही था, तो हाईवे पर टोल टैक्स पर गाड़ियों की लम्बी लाइन से आप भी परेशान हो जाते होंगे। ऐसे ही कई लोग है जो इस समस्या से निदान चाहते है। इस समस्या के निदान के लिए भारत में सड़क परिवहन मंत्रालय ने एक बहुत ही अच्छा रास्ता निकाला है। इस में आपको फास्टैग अपनाने की सलाह दी गई है। इस फास्टैग के कुछ लाभ भी है जो की काफी खास है जैसे:

  • Fastag से आपको लाइन में खड़ा नहीं रहना पड़ता है। आप जिस भी टोल पर जाते है और वहां पर आपको रोड पर ट्रैफिक मिलता है तो आप उसे आसानी से आगे निकल सकते है।
  • इस फास्टैग की मदद से आपकी गाड़ी के पेट्रोल की भी बचत होती है।
  • Fastag को ऑनलाईन रिचार्ज कराने आपको रिचार्ज कंपनी द्वारा भी लाभ दिया जाता है साथ ही इस फास्टैग के नियम की माने तो आपको इसके हर ट्रांजेक्शन पर 10 प्रतिशत तक का कैशबैक दिया जाता है।
  • फास्टैग को हाल ही में पूरे देश में लागू किया गया है जिससे हर व्यक्ति को इसका लाभ मिल सकेगा।
  • आपके सभी ट्रांजेक्शन की जानकारी एसएमएस के जरिये मिलेगी सुविधा: आपके Fastag मे हर प्रकार के ट्रांजेक्शन की जानकारी आपको एसएमएस के जरिये दी जाएगी। इसमें यह भी सुविधा है, की जैसे ही आपके फास्टैग खाते से पैसे कटेंगे तो उसका तुरंत मैसेज आपके पास जाएगा।

तो यह कुछ फायदे है Fastag के बारे में। जिसे आप जान चुके होगे की यदि आपने अभी तक फास्टैग का इस्तेमाल नहीं किया है तो आपको क्यों करना चाहिए?

फास्टैग की शुरुआत कब हुई थी?

भारत में इस Fastag की सुविधा का संचालन गुजरात के अहमदाबाद से मुंबई के हाईवे से शुरू हुआ था। 2014 में इस सुविधा को पहली बार शुरू किया गया था। 2015 में जुलाई माह से इसको चेन्नई बेंगलुरु हाईवे पर भी शुरू कर दिया गया था। वर्तमान में यह देश के 332 से भी ज्यादा टोल पर अपनी सेवाएं दे रहा है। इस फास्टैग से काफी सुविधा दी लोगों को मिल रही है।

साथ ही साथ सरकार ने 2019 में फास्टैग को अनिवार्य किया गया है।

सरकार ने 2019 में इस बात की घोषणा की थी दिसम्बर 2019 से देश में सब गाड़ियों पर फास्टैग लगाना अनिवार्य होगा।

अगर किसी गाड़ी के पर Fastag नहीं होगा तो उसका टोल नही लिया जाएगा। सरकार ने गाड़ी निर्माता कंपनी को भी इस बात को सुनिश्चित करने को कहा की उनकी कंपनियों की गाड़ियों पर यह फास्टैग की सुविधा अनिवार्य हो। अगर कोई नई गाडी खरीदेगा तो उस गाड़ी पर फास्टैग लगाना जरूरी होना चाहिए।

Toll Tax के अलावा भी कई प्रकार से उपयोग है फास्टैग

2020 में जनवरी माह से फास्टैग की सुविधा को पूरी तरह से देश में लागू कर दिया गया था। जिसके बाद यह हर गाड़ी पर फास्टैग लगाना अनिवार्य कर दिया था।

2020 के जनवरी माह के बाद अगर किसी गाड़ी पर फास्टैग का स्टीकर नहीं लगाते है तो उसका कैश में टोल टैक्स नहीं लिया जाएगा, इसके बाद टोल टैक्स केवल फास्टैग से ही अनिवार्य होगा।

फास्टैग लगाना क्यों जरूरी है?

Toll Tax के अलावा भी इन कामों भी टोल टैक्स की आवश्यकता होता है:

  • अगर आपकी गाड़ी का फिटनेस सर्टिफिकेट को रिन्यू करवाना है तो उसके लिए फास्टैग अनिवार्य है, बिना इसके आप अपनी गाड़ी के ट्रांसपोर्ट फिटनेस सर्टिफिकेट को रिन्यू नही कर पायेंगे।
  • नेशनल परमिट बनाने के लिए भी अब फास्टैग को अनिवार्य कर दिया है। नेशनल परमिट बनाने से पहले यह जरूरी है की आपकी गाडी का फास्टैग बना हुआ होना चाहिए।
  • अगर आपकी गाड़ी इंश्योरेंस करवाना है तो भी आपको अपनी गाड़ी पर फास्टैग लगाना अनिवार्य होगा।

फास्टैग बनाने के लिए जरूरी दस्तावेज कौन से है?

अगर आपको आपकी गाडी पर Fastag लगाना है तो आपको उसके लिए कुछ जरूरी दस्तावेजों की आवश्यकता होती है जैसे:

  • फास्टैग बनाने के लिए आपकी गाड़ी की आरसी आपके फास्टैग के आवेदन पत्र के साथ लगाना अनिवार्य है।
  • गाडी के मालिक की 2 नयी खींची गई पासपोर्ट साइज फोटो।
  • इन सब दस्तावेजों के अलावा आवेदक को अपनी kyc करने के लिए पैन कार्ड, आधार कार्ड इत्यादि किसी भी एक दस्तावेज की भी आवश्यकता होती है।
  • इस सब दस्तावेजों की Original Copy भी आपको अपने साथ रखनी होती है।

जब भी आप नया फास्टैग लगाने जाए तो उपर बताए दस्तावेज को साथ जरूर रखे।

फास्टैग कैसे बनाए?

अगर आपने अभी तक Fastag नहीं बनवाया है तो आप इस प्रोसेस को फॉलो करके आसानी से फास्टैग को बनवा सकते है। यहां पर हमने ऑनलाइन और ऑफलाइन दोनो तरीके के बारे में बताया है जिससे आप फास्टैग बना सकते है।

ऑनलाइन फास्टैग कैसे बनाए?

ऑनलाइन फास्टैग बनाने के लिए आप पेटीएम एप का इस्तेमाल कर सकते है। आप paytm के जरिये भी फास्टैग आसानी से खरीद सकते है। जिसका प्रोसेस आपको नीचे स्टेप बाय स्टेप बताया गया है।

Step 1 – सबसे पहले आपको पेटीएम की ऑफिशियल वेबसाइट पर जाना होगा। इस पेज पर आने के बाद आप पेटीएम के जरिये अपना फास्टैग खरीद पायेंगे। https://paytm.com/fastag

Step 2 – इस पेज पर आने के बाद आपको इस पेज की स्क्रीन पर Personal Fastag और Commercial fastag दो ऑप्शन दिखाई देंगे, आपको जो भी फास्टैग खरीदना है उस ऑप्शन पर आपको जाना होगा।

Step 3 – Personal Fastag वाले ऑप्शन पर आने के बाद आपको कुछ आसान से प्रोसेस को फॉलो करना होगा, आपको इसमें आपकी गाडी का नम्बर भरना होगा और अपने जरूरी डॉक्यूमेंट भी अपलोड करने होंगे।

Step 4 – इतनी जानकारी भरने के बाद आपको इसे ऑर्डर कर देंगे, जिसके बाद आपको फास्टैग आपके घर पर जाएगा जिसे आप अपनी गाड़ी पर लगा सकेंगे।

अगर आपके पास paytm जैसी कोई ऐप नहीं है तो आप इस टाॅल ऑफिस में जाकर भी बना सकते है।

ऑफलाइन फास्टैग कैसे बनाए?

यदि आप ऑनलाइन फास्टैग बनाना नही जानते है तो आप ऑफलाइन भी फास्टैग को बना सकते है।

ऑफलाइन Fastag आप टाॅल ऑफिस पर जाकर भी बनवा सकते है। टोल ऑफिस पर जाने के बाद आपको वहां पर आपकी गाड़ी के जरूरी दस्तावेज जमा कराने होंगे। दस्तावेज जमा कराने के बाद आप फास्टैग यही से प्राप्त कर सकेंगे।

फास्टैग का रिचार्ज कैसे करे ?

आपके फास्टैग का अगर रिचार्ज खत्म हो गया है तो आप इसे आसानी से रिचार्ज कर सकते है। आप इसे पेटीएम या अन्य किसी भी अन्य ऐसी ऐप रिचार्ज कर सकते है।

Step 1 – पेटीएम से अपने फास्टैग का रिचार्ज करने के लिए पहले आपको पेटीएम की ऑफिशियल वेबसाइट या ऐप पर आना होगा। अगर आपके पास पेटीएम ऐप नहीं है तो आप इस लिंक से भी अपने फास्टैग का रिचार्ज कर सकते है।  https://paytm.com/fastag-recharge

Step 2 – इस पेज पर आने के बाद आपको यहां पर अपने फास्टैग का नम्बर डालना होगा, नंबर डालने के बाद आपकी सारी जानकारी खुल कर सामने जाएगी।

Step 3 – अपना फास्टैग नम्बर डालने के बाद आपको पेटीएम को पेमेंट का भुगतान करना होगा। भुगतान करने के बाद आपके फास्टैग का रिचार्ज हो जाएगा।

Conclusion

दोस्तो आज के इस आर्टिकल में आपने जाना की Fastag Kya Hai? और Fastag से जुड़ी जानकारी जानी। यदि आपने अभी तक फास्टैग का इस्तेमाल नहीं किया है तो जरूर लगवा दीजिए।

मुझे उम्मीद है की Fastag से जुड़ी जानकारी और उसका उपयोग क्यों करना चाहिए? आप अच्छे से जान चुके होगे!

इस आर्टिकल में मैने फास्टैग को लेकर सभी जानकारी देने की कोशिश की है। Fastag kya hai आर्टिकल को लेकर कोई सवाल है तो आप नीचे कमेंट बॉक्स में जरूर बताएं।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here